Aus vs Ind - रोहित और इशांत को ऑस्ट्रेलिया जाना ही नहीं था, गलत जानकारी फैलाई गई: BCCI

के. श्रीनिवास राव, मुंबई और ईशांत शर्मा के टेस्ट सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलिया नहीं जाने को लेकर उठ रहे विवाद पर बीसीसीआई ने स्थिति स्पष्ट की है। बोर्ड की ओर कहा गया है, 'रोहित और ईशांत वैसे भी टीम का हिस्सा नहीं थे। चार टेस्ट मैचों के लिए 18 सदस्यीय टीम की घोषणा की गई है। अब जब विराट कोहली वापस आ रहे हैं तो हमें उम्मीद है कि श्रेयस अय्यर टेस्ट सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलिया में ही रुकेंगे।'

हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक रोहित की फिटनेस का आकलन 11 दिसंबर को किया जाएगा। इसके बाद ही तय किया जाएगा कि क्या वह टेस्ट मैच खेलने के लायक हैं अथवा नहीं।

मामले को करीब से देख रहे एक सूत्र ने बताया, 'अब समस्या यह है कि ऑस्ट्रेलिया में 14 दिन का क्वॉरनटीन करना जरूरी है। अगर उन्हें 12 तारीख को जाने की इजाजत मिल भी जाए तो वह कैसे जाएंगे? कोई कमर्शल फ्लाइट जा भी नहीं रही। अगर वह चले भी जाएं तो उन्हें दो सप्ताह तक अकेले क्वॉरनटीन रहना होगा। वह कब उपलब्ध होंगे यह फिटनेस का सवाल है।'

अगर रोहित टेस्ट मैच खेलना चाहते और उन्हें फिट होने का पूरा विश्वास होता, तो वह टीम के साथ 12 नवंबर को ही बाकी टीम के साथ ऑस्ट्रेलिया चले जाते।

बीसीसीआई के सूत्रों का कहना है, 'रोहित को बाकी टीम के साथ ही 12 नवंबर को फ्लाइट लेनी थी लेकिन उन्होंने ऐसा करने के बजाय नैशनल क्रिकेट अकादमी (एनसीए) जाने का फैसला किया।'

अब बीसीसीआई के अपने नियमों के मुताबिक रोहित को टेस्ट मैच खेलने से पहले फिट घोषित किए जाने की जरूरत है।

बीसीसीआई ने कहा, 'बीसीसीआई में कोई नहीं जानता कि आखिर रोहित को नैशनल क्रिकेट अकादमी जाने को किसने कहा। क्या यह उनका अपना फैसला है? अब फैसला एनसीए को करना है।'

कुछ लोगों का मानना है कि रोहित अगर बाकी टीम के साथ ऑस्ट्रेलिया चले जाते, वहीं रीहैब कर लेते और फिट हो जाते तो वह दूसरे टेस्ट में खेल लेते क्योंकि वह जरूरी क्वॉरनटीन का वक्त पूरा कर लेते।

करीबी सूत्रों ने बताया, 'चाहे जो भी कन्फ्यूजन रही हो, इसने टीम की तैयारियों को नुकसान पहुंचाया है। विराट को वापस आना होगा क्योंकि यह पर्सनल और बहुत जरूरी है। रोहित ने पिछले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भी ऐसा ही किया था। यह दुर्भाग्य की बात है कि कम्यूनिकेशन की कमी की वजह से टीम को नुकसान झेलना पड़ेगा।'

बीसीसीआई सूत्रों का कहना है कि रोहित और ईशांत कभी ऑस्ट्रेलिया नहीं जा रहे थे। सूत्र ने कहा, 'अगर कोई गलत खबर फैला रहा है तो यह अच्छी बात नहीं है।'

जहां ईशांत की बात है, तो इसका फैसला करीब एक महीना पहले किया गया था। तब एनसीए निदेशक राहुल द्रविड़ ने बीसीसीआई अधिकारियों को लिखा था, 'ईशांत को फिट होने के लिए करीब चार सप्ताह का वक्त लगेगा और इसके बाद मैच फिटनेस हासिल करने के लिए उन्हें और तीन से चार सप्ताह का वक्त लगेगा।' यानी 17 दिसंबर को (पहला टेस्ट शुरू होने की तारीख), तक वह पूरी तरह फिट हो जाएंगे।

बीसीसीआई सूत्रों का कहना है, 'इसके बाद उसे 14 दिन का क्वॉरनटीन करना पड़ेगा। इसके बाद क्या? और अकेले क्वॉरनटीन में रहना काफी मुश्किल काम है। जब तक वह ठीक होंगे तीन टेस्ट मैच खत्म हो जाएंगे। क्या टीम को वाकई इसकी जरूरत है?'

हमारे सहयोगी टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, बीसीसीआई अधिकारियों ने रोहित को बता दिया था कि विराट कोहली के वापस आने के बाद वह ऑस्ट्रेलिया जाएंगे लेकिन रोहित को मालूम था कि उन्हें ब्रेक लेने की जरूरत होगी।

करीबी सूत्रों ने बताया, 'यह कभी बीसीसीआई का फैसला नहीं था। हमें नहीं पता कि कौन ऐसा कर रहा है।'