Translate to...

भर्ती कोविड मरीजों की संख्या में लगातार दूसरे दिन वृद्धि, डेल्टा वेरियेंट का थम नहीं रहा प्रकोप

नई दिल्ली
देश में कोविड-19 महामारी के वैसे मरीजों की संख्या लगातार दूसरे दिन बढ़ गई है जिन्हें इलाज के लिए अस्पतालों का रुख करना पड़ा है। ऐसे मरीजों में कोविड के गंभीर लक्षण पाए जा रहे हैं, इसलिए उन्हें भर्ती होने की नौबत आ रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी ताजा रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले 24 घंटे में कोविड-19 का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या में 2,224 की वृद्धि हुई है।

इलाजरत मरीजों की संख्या में वृद्धि
मंत्रालय के मुताबिक, देश में एक दिन में कोविड-19 के 41,383 नए मामले आने से संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 3,12,57,720 पर पहुंच गई जबकि उपचाराधीन मरीजों की संख्या 4,09,394 दर्ज की गई। उसने कहा कि महामारी का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या में यह वृद्धि लगातार दूसरे दिन दर्ज की गई है। उधर, एक स्टडी में पाया गया है कि देश में कोरोना वायरस का (B.1.617.2) ही ज्यादातर लोगों को संक्रमित कर रहा है।

कुल केस के 1.31% मरीज इलाजरत
बहरहाल, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के बृहस्पतिवार को सुबह आठ बजे तक के ताजाआंकड़ों के अनुसार, देश में 507 और लोगों के जान गंवाने से मृतकों की संख्या बढ़कर 4,18,987 हो गई है। उपचाराधीन मरीजों की संख्या संक्रमण के कुल मामलों का 1.31 प्रतिशत है जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने वाले लोगों की राष्ट्रीय दर 97.35 प्रतिशत है। बुधवार को इस महामारी का पता लगाने के लिए 17,18,439 नमूनों की जांच की गई और इसी के साथ अभी तक कुल 45,09,11,712 नमूनों की जांच की जा चुकी है।

आंकड़ों के मुताबिक, संक्रमण की दैनिक दर 2.41 प्रतिशत दर्ज की गई। यह लगातार 31वें दिन तीन प्रतिशत से कम है। साप्ताहिक संक्रमण दर 2.12 प्रतिशत दर्ज की गई। इस बीमारी से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 3,04,29,339 हो गई है और मृत्यु दर 1.34 प्रतिशत है। अभी तक देशव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत 41.78 करोड़ टीके लगाए जा चुके हैं।


डेल्टा वेरियेंट अब भी हावी

देश में मई-जून के महीनों में की गई जीनोम सिक्वेंसिंग के नतीजे बताते हैं कि 87% संक्रमण डेल्टा वेरियेंट के कारण ही हो रहा है। हालांकि, अच्छी बात यह है कि जिन लोगों ने वैक्सीन ले ली है, उनमें ज्यादातर लोगों को वायरस का संक्रमण होने के बाद अस्पताल जाने की नौबत नहीं आती है। जीनोम सिक्वेंसिंग के नतीजे बताते हैं कि डेल्टा वेरियेंट्स वैक्सीन के कवच को भेद तो देता है, लेकिन वह शरीर को बहुत नुकसान नहीं पहुंचा पाता है।


यूं बढ़ता गया कोरोना का ग्राफ
ध्यान रहे कि देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितम्बर को 40 लाख से अधिक हो गई थी। वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितम्बर को 50 लाख, 28 सितम्बर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवम्बर को 90 लाख के पार हो गए। देश में 19 दिसम्बर को ये मामले एक करोड़ के पार, चार मई को दो करोड़ के पार और 23 जून को तीन करोड़ के पार चले गए थे।