मैकग्रा को वर्ल्ड कप की इस गेंद के कारण आज भी पड़ती है भारत में गाली

नई दिल्लीभा ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज तेज गेंदबाजों में शुमार ने 2003 वर्ल्ड कप का एक किस्सा शेयर किया और साथ ही कहा कि एक गेंद के लिए भारतीय क्रिकेट प्रेमी उन्हें आज भी गाली देते हैं। ब्रिसबेन के गाबा स्टेडियम में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच जारी चौथे टेस्ट मैच में लंच के दौरान मैकग्रा ने वह किस्सा साझा किया।

ब्रिसबेन टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के कप्तान टिम पेन ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग का फैसला किया और लंच तक दो विकेट खो दिए। पहले दिन का खेल खत्म होने तक शुक्रवार को ऑस्ट्रेलिया ने 5 विकेट खोकर 274 रन बनाए जिसमें मार्नस लाबुशेन के शतक का अहम योगदान रहा। लंच ब्रेक के दौरान ग्लेन मैकग्रा ने सचिन तेंदुलकर से जुड़ा पुराना किस्सा सुनाया।



मैकग्रा ने कहा कि 2003 वर्ल्ड कप फाइनल के कारण उन्हें इंडियन्स अभी भी गाली देते हैं। वह पूरी कहानी बताते हुए कहते हैं, 'हमने 359 रन टांग दिए थे। फिर भी सचिन औऱ सहवाग के रहते इंडियन फैन्स को उम्मीद थी। पहला ओवर मेरा ही था।'

ग्लेन मैकग्रा बताते हैं, 'पहली गेंद स्विंग हुई। सचिन तेंदुलकर ने बल्ला ऊपर ले लिया। दूसरी गेंद स्टंप के ठीक ऊपर से निकल गई। तीसरी गेंद भी ऑफ स्टंप के बाहर थी जिसे सचिन ने छोड़ दिया। अगली गेंद पर सचिन ने ऑफ स्टंप के बाहर वाली गेंद को ऑन साइड में पुल कर चौका मार दिया। जोहान्सबर्ग में भारतीय दर्शन उछल पड़े। कुछ सुनाई नहीं दे रहा था। पांचवीं गेंद मैंने बाउंस कराया । सचिन ने उसे भी बाउंड्री पार भेजने की कोशिश की। लेकिन बल्ला लेट चला और गेंद सीधे आसमान की तरफ उछली। मैंने आसान सा कैच लिया और पूरे स्टेडियम में पिन ड्रॉप साइलेंस छा गया।'

मैकग्रा ने सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट जगत का महान बैट्समैन बताते हुए कहा कि उस घटना के बाद भारत में लोग उन्हें आज तक गाली देते हैं लेकिन इसका मलाल उन्हें नहीं है। मैकग्रा ने कहा कि वह अब भी सचिन का सम्मान करते हैं।