अमिताभ और किशोर के साथ याद किया जाना शानदार अहसास : गावसकर

अमिताभ और किशोर के साथ याद किया जाना शानदार अहसास : गावसकर
नई दिल्लीसत्तर के दशक में बॉलिवुड शहंशाह अमिताभ बच्चन ‘जंजीर’ और ‘दीवार’ जैसी फिल्मों में अपनी अदाकारी से दर्शकों का मनोरजंन कर रहे थे और किशोर कुमार अपने गानों से सभी के दिलों में अपनी जगह बना चुके थे। उसी दौर में भारतीय स्टार क्रिकेटर (Sunil Gavaskar) देश की युवा उम्मीदों को अपने कंधों पर लेकर सिखा रहे थे कि दमदार देशों को किस तरह चुनौती दी जानी चाहिए।

आज यानी छह मार्च 2021 को गावसकर ने भारतीय क्रिकेट के साथ 50 साल पूरे कर लिए। पांच दशक बाद बाद भी वह अलग-अलग भूमिकाओं से भारतीय क्रिकेट के साथ जुड़े हुए हैं।


पढ़ें,

गावसकर ने वेस्टइंडीज में अपने टेस्ट डेब्यू की 50वीं वर्षगांठ की पूर्व संध्या पर इंटरव्यू में कहा, ‘बच्चन साहब अब भी भारत के महान ‘आइकन’ हैं और दिवंगत किशोर कुमार सदाबहार हैं, जिन्हें भुलाया नहीं जा सकता। इसलिए अगर आप मुझसे पूछोगे तो कि मुझे उनके साथ रखने के बारे में सोचना बहुत ही सुखद अहसास है।’



यह पूछने पर कि जब वह पांच दशक पहले कैरेबियाई आक्रमण का सामना करने पोर्ट ऑफ स्पेन में मैदान पर उतरे तो वह कैसा महसूस कर रहे थे। उन्होंने कहा, ‘आखिर में अपने देश की कैप पहनकर बहुत खुश था। थोड़ा नर्वस भी था क्योंकि हम उस टीम के खिलाफ खेल रहे थे जिसकी अगुआई महानतम सर गैरी सोबर्स कर रहे थे।’

अपनी डेब्यू सीरीज में 774 रन बनाकर गावसकर समय की कसौटी पर खरे उतरे लेकिन जब वह पीछे मुड़कर देखते हैं तो उन्हें लगता है कि वह 400 रन बनाकर भी खुश होते।



उन्होंने कहा, ‘निश्चित रूप से यह अहसास काफी अच्छा था। अगर मैं 350 से 400 रन बनाता तो भी संतुष्ट होता।’

क्रिकेट फैंस के बीच 'सनी' से मशहूर गावसकर ने 125 टेस्ट और 108 वनडे इंटरनैशनल मैच खेले। उनके नाम टेस्ट में 10122 और वनडे क्रिकेट में 3092 रन दर्ज हैं। टेस्ट में उन्होंने 34 शतक और 45 अर्धशतक लगाए जबकि वनडे में एक शतक और 27 अर्धशतक जड़े।